Maihar News :निरीक्षण के दौरान बंद मिली आंगनवाड़ी, मैहर कलेक्टर ने थमाया नोटिस

निरीक्षण के दौरान बंद मिली आंगनवाड़ी, कार्यकर्ताओं को नोटिस
Photo credit by satna times

मैहर, मध्यप्रदेश।। कलेक्टर मैहर श्रीमती रानी बाटड के निर्देशानुसार जिले के एसडीएम और तहसीलदारों द्वारा अपने-अपने प्रभार क्षेत्र के भ्रमण के दौरान आंगनवाड़ी केंद्र, राशन दुकान एवं अन्य शासकीय संस्थाओं का भी आकस्मिक निरीक्षण किया जा रहा है। सोमवार को एसडीएम मैहर विकास सिंह और तहसीलदार जीतेंद्र पटेल ने नगर पालिका क्षेत्र मैहर की अनेक आंगनवाड़ी केंद्रों का निरीक्षण कर संदर्भ सेवाओं, पोषण आहार वितरण सहित अन्य गतिविधियों का जायजा लिया।

निरीक्षण के दौरान बंद मिली आंगनवाड़ी, कार्यकर्ताओं को नोटिस
Photo credit by satna times

उन्होने इस दौरान आंगनवाड़ी केंद्र की पंजियों का निरीक्षण किया तथा बच्चों को दिये जाने वाले पोषण आहार, मध्यान्ह भोजन को चखकर गुणवत्ता जांची।निरीक्षण के दौरान नगरीय क्षेत्र मैहर की पांडेय टोला स्थित आंगनवाड़ी केंद्र क्रमांक-6-1 और 6-2 के बिना किसी सूचना और कारण के निर्धारित समय पर बंद पाये जाने पर संबंधित कार्यकर्ताओं को नोटिस जारी की गई है।अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) मैहर विकास सिंह द्वारा पांडेय टोला के आंगनवाड़ी केंद्र क्रमांक 6-1 की कार्यकर्ता  रंजना सोनी और केंद्र क्रमांक 6-2 की कार्यकर्ता  भावना शर्मा को जारी नोटिस में कहा गया है कि निर्धारित समय पर बिना किसी सूचना के आंगनवाड़ी केंद्रा बंद पाया जाना स्वेच्छाचारिता, शासन के आदेशों की अवहेलना और लापरवाही का द्योतक है।



संबंधितों को 30 मई को समक्ष में उपस्थित होकर स्पष्टीकरण देने के निर्देश दिये गये हैं। अन्यथा की स्थिति में या प्रस्तुत जवाब समाधानकारक नहीं पाये जाने पर कार्यकर्ता की एक माह की वेतन कटौती का प्रस्ताव कलेक्टर मैहर की ओर कार्यवाही के लिये भेजा जायेगा। जिला मैहर के प्रभारी जिला कार्यक्रम अधिकारी राजेंद्र बांगरे ने भी जनपद मैहर, अमरपाटन, रामनगर के सीडीपीओ को पत्र लिखकर अप्रसन्नता जाहिर की है। सभी सीडीपीओ को लिखे पत्र में कहा गया है कि आंगनवाड़ी केंद्र में पोषण आहार का वितरण राज्य शासन की प्राथमिकता के साथ लोकसेवा गारंटी अधिनियम 2010 और खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के तहत महत्वपूर्ण निर्बाध सेवा में शामिल है। सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशानुसार हितग्राहियों को वर्ष में न्यूनतम 300 दिवस का पूरक पोषण आहार उपलब्ध कराया जाना अनिवार्य है। पूरक पोषण आहार कार्यक्रम के तहत नगरीय क्षेत्रों के चयनित स्व-सहायता समूह एवं सांझा चूल्हा व्यवस्था के तहत ग्रामीण क्षेत्र के शासकीय स्कूलों में मध्यान्ह भोजन प्रदाय करने वाले समूहों द्वारा आंगनवाड़ी केंद्रों के हितग्राहियों को सुबह नाश्ता, दोपहर में भोजन एवं थर्ड मील प्रदान करने के निर्देश हैं।



शालाओं में ग्रीष्मकालीन अवकाश के दौरान सांझा चूल्हा व्यवस्था में कार्यरत स्व-सहायता समूहों को सख्त निर्देशित करें कि इस दौरान ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों की आंगनवाड़ी केंद्रों में हितग्राहियों को निर्देशानुसार पूरक पोषण आहार के रुप में बच्चों को नाश्ता, भोजन और थर्ड मील की निरंतरता बनाये रखें। उन्होने सभी सीडीपीओ और विभागीय सुरपरवाइजर्स को अपने प्रभार की आंगनवाड़ी केंद्रों का नियमित और लगातार भ्रमण सुनिश्चित कर केंद्रों का संचालन और पोषण आहार वितरण नियमित रुप से किये जाने के निर्देश भी दिये हैं। समय-सारणी के अनुसार मैहर जिले की आंगनवाड़ी केंद्रों में नाश्ता और भोजन वितरण नियमित रुप से नहीं करने वाले स्व-सहायता समूहों के विरुद्ध कार्यवाही करने के निर्देश भी दिये गये हैं। कलेक्टर मैहर के निर्देशानुसार जिले के मैहर, अमरपाटन, रामनगर अनुभाग में राजस्व अधिकारियों द्वारा आंगनवाड़ी केंद्र की सेवाओं तथा राशन दुकानों का आकस्मिक निरीक्षण भी नियमित भ्रमण के दौरान किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here